close button
ब्रेकिंग न्यूज़
Home / करगी रोड / सकोला तहसील के निर्माण को लेकर जनप्रतिनिधियों ने सचिव छ.ग.शासन राजस्व एवं आपदा प्रबंधन को भेजा माँग पत्र ।
.

सकोला तहसील के निर्माण को लेकर जनप्रतिनिधियों ने सचिव छ.ग.शासन राजस्व एवं आपदा प्रबंधन को भेजा माँग पत्र ।

Advertisement

जनप्रतिनिधियों ने दावा आपत्ति जीपीएम कलेक्टर को पेश की

दबंग न्यूज लाईव
बुधवार 20.10.2021

गौरेला पेण्ड्रा मरवाही – छत्तीसगढ़ राजपत्र दिनाँक 21 सितम्बर 2021 के अनुक्रम में नया तहसील सकोला जिला गौरेला पेण्ड्रा मरवाही निर्माण में समीपस्थ गाँव को शामिल नहीं किये जाने से क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों ने सचिव छ.ग.शासन राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्रालय रायपुर के नाम जिला कलेक्टर नम्रता गांधी को ज्ञापन सौंपकर दावा आपत्ति प्रस्तुत की है।

गौरतलब है कि राजपत्र के अधिसूचना के तारतम्य में जिला गौरेला पेण्ड्रा मरवाही के अन्तर्गत नई तहसील सकोला के गठन की अधिसूचना प्रकाशित कर दावा आपत्ति सुझाव आमंत्रित किया गया है।इस सम्बन्ध में क्षेत्र के मड़ई, सेखवा,पथर्रा,कोलबिरा,रुमगा, मासुलडाँड़,कछार,मटियाडाँड़ ग्राम के जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामवासियों की माँग है कि तहसील मरवाही नया तहसील सकोला से 27 किलोमीटर दूर है इसलिए नई तहसील बनने वाली तहसील में इन समीपस्थ ग्रामों को विशेषकारणवश शामिल किया जाये।

जनप्रतिनिधियों ने माँग पत्र के माध्यम से कहा है कि सेखवा ग्राम पंचायत ,सकोला तहसील से 01किलोमीटर व मरवाही तहसील से 26 किलोमीटर दूरी पर स्थित है।मड़ई ग्राम पंचायत ,सकोला तहसील से 02 किलोमीटर व मरवाही तहसील से 25 किलोमीटर दूरी पर है।पथर्रा ग्राम पंचायत,सकोला से 03 किलोमीटर व मरवाही से 24 किलोमीटर दूरी पर है।कोलबिरा गाँव,सकोला से 04 किलोमीटर व मरवाही से 23 किलोमीटर दूरी पर है।

रुमगा ग्रामपंचायत,सकोला से 07 किलोमीटर व मरवाही से 20 किलोमीटर दूरी पर है वहीं मासुलडाँड़,कछार गाँव भी सकोला 07 किलोमीटर व मरवाही से 20 किलोमीटर दूरी पर है। मटियाडाँड़ ग्राम पंचायत,सकोला तहसील से 09 किलोमीटर एवं मरवाही तहसील से 18 किलोमीटर की दूरी पर है।ये सभी गाँव नई बनने वाली तहसील सकोला से एक से नौ किलोमीटर की दूरी पर बसे हुये हैं जबकि मरवाही तहसील से 18 से 27 किलोमीटर की दूरी पर बसे हुये हैं।

जबकि नये जिले के निर्माण में शासन की मंशा रही है कि गरीब और जरूरतमंद आम जनता के सभी कार्य कम दूरी तय कर कम समय में सम्पन्न हो सके।इस क्षेत्र की अधिकांश जनता आदिवासी समाज व गरीबी से जीवन निर्वाह कर रही है उन्हें व उनकी आने वाली पीढ़ी को शासकीय कार्यों के लिए दूर न जाना पड़े सभी कार्यों की सुगमता हेतु समीपस्थ गाँवों को नई बनने वाली तहसील में शामिल कराने हेतु जनप्रतिनिधियों ने शासन के समक्ष माँग की है और नई तहसील सकोला के निर्माण में सरपंचों, जनपद सदस्यों व ग्रामवासियों ने दावा आपत्ति प्रस्तुत कर सचिव छ.ग.शासन राजस्व आपदा प्रबंधन के नाम कलेक्टर नम्रता गांधी को ज्ञापन सौंपा है।

सकोला तहसील में सेखवा,मड़ई, पथर्रा,रुमगा,मटियाडाँड़ पंचायत व आश्रित गाँव कोलबिरा,मासुलडाँड़,कछार को शामिल करने की माँग करने वालों में प्रमुख रूप से मड़ई सरपंच बुधवरिया बाई,उपसरपंच अमोल सिंह अर्माे,सेखवा सरपंच सेमजीर बाई,उपसरपंच पुष्पराज डायमंड,जिला युवा कांग्रेस अध्यक्ष अमन शर्मा,कोटमी उपसरपंच रीना गुप्ता, पथर्रा सरपंच रामचरण मार्काे,उपसरपंच भोलू कैवर्त,रुमगा सरपंच सुशीला बाई, मटियाडाँड़ सरपंच संजय अहिरेश ,जनपद सदस्य नेहा बाई कृपाल सिंह कँवर,जनपद सदस्य कौशिल्या केंवट जीतन कैवर्त सहित शिव गुप्ता,सीताराम कैवर्त,बलराम तिवारी, मनीमोहन राय, राजकमल गुप्ता,जोगेन्दर श्याम पूर्व सरपंच,राजेन्द्र प्रसाद कैवर्त,नारायण कुमार अहिरेश,धरमचंद ग्वाल, तारा बाई,मूलचन्द पंच,मदन लाल कैवर्त,मनीराम सलाम, शिव कुमार प्रजापति,गोपाल प्रजापति,नंदीश्वर लाल कैवर्त,द्वारिका प्रसाद रजक,भजनलाल यादव,प्रदीप कुमार मराबी,चंद्रभान श्याम,पूर्व सरपंच इतवार सिंह आदि जनप्रतिनिधिजन व ग्रामवासी प्रमुख रूप से शामिल हैं।

Advertisement
Advertisement

About sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
x

Check Also

ब्रेकिंग – तेंदुवे का दुसरा शिकार भी फेल कहीं तेंदुवा हिंसक ना हो जाए ।

Advertisement कल रात फिर गांव में घुसकर बछड़े पर किया हमला । ...

error: Content is protected !!