close button
करगी रोडकोरबापेंड्रा रोडबिलासपुरभारतमरवाहीरायपुर

GPM Police – 48 घंटे में अंधे कत्ल की खुली गुत्थी – जिसे समझ रहे थे बेगुनाह उसने ही किया ये कत्ल ।

 पहले की हत्या फिर एक दिन लाश को छुपा कर रखा फिर गले में पत्थर बांध फेंक दिया नदी में । 

K.K.Pandey

जीपीएम – जीपीएम पुलिस GPM Police ने दो दिन पहले मनियार नदी में मिले एक अज्ञात लाश की पहचान करते हुए सिर्फ 48 घंटे में इस अंधे कत्ल की गुत्थी को सुलझा लिया । जैसे जैसे पुलिस इस शव की पहचान और अपराध की दिशा में बढ़ते गई कई चोैंकाने वाले खुलासे होते गए ।


प्राप्त जानकारी के अनुसार गौरेला थाने GPM Police के अंतर्गत आने वाले मानपुर निवासी चैनसिंह भैना 45 वर्ष घर से दवाई लेने बनझोरका जाने की बात कह कर निकला फिर वापस ही नहीं लौटा । तब चैन सिंह की बेटी चंद्रकली अपने भाई के साथ गौरेला थाने आकर गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई । शिकायत पर गौरेला पुलिस ने गुम इंसान का मामला 68/21 में दर्ज कर लिया ।


इस बीच 6 तारीख को नेवरी के कोटवार नगेन्द्र सोनवानी ने थाने में सूचना दी कि बनझोरका में नया खेत अरपा नदी में एक अज्ञात व्यक्ति का शव पानी में दिखाई दे रहा है । जानकारी के बाद गौरेला थाना प्रभारी अपने स्टाफ के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और गांव वालों की मदद से शव को बाहर निकाला । इस बीच पुलिस ने चैनसिंह की बेटी को भी पहचान के लिए बुला लिया था ।


चंद्रकली ने शव की पहचान अपने पिता चैनसिंह के रूप में की । पोस्टमार्टम की रिपोर्ट धारदार हथियार से गले में वार करने से गले की हड्डी टूटने व कोमा में चले जाने से मृत्यु होना बताया । मामले की जानकारी थाना प्रभारी ने जिले के कप्तान को दी उसके बाद एसपी त्रिलोक बंसल भी मौके पर पहुंच गए और जांच के बिन्दुओं बताते हुए जांच करने के निर्देश दिए ।

इस बीच पुलिस GPM Police  को पता चला कि चैन सिंह का संबंध अपनी समधन अमिता बाई से था । ये सूत्र पुलिस के लिए काफी था और पुलिस ने अपनी जांच की दिशा इस तरफ मोड़ दी । पुलिस ने अमिता बाई को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो सारी हकीकत सामने आ गई और फिर खुलासा हुआ अंधे कत्ल की एक अनसुलझी गुत्थी का ।


अमिता बाई ने पुरे मामले का खुलासा करते हुए बताया कि एक तारीख को बारह बजे चैन सिंह घटर आया उस समय वो शराब पीया हुआ था और साथ में शराब भी लेकर आया था । अमिता बाई को उसके घर से दूर ले जाकर शराब पीलाया और शारीरिक संबंध बनाने लगे उसी बीच अमिता की बेटी यानी चैनसिंह की बहु रामप्यारी ने इन लोगों को देख लिया । रामप्यारी ने गुस्से में आकर घर से टंगिया लाई और चैनसिंह पर वार कर दिया जिससे चैनसिंह की वहीं मोैत हो गई ।
अमिता बाई ने बताया कि घटना के बाद एक दिन तक लाश को नाले के पास ही छुपा कर रखा गया था बाद में पत्थर बांध कर नदी में फेंक दिये कि किसी को पता नहीं चलेगा ।


घटना की जानकारी के बाद पुलिस ने रामप्यारी पति गणेश भैना , अमिता बाई पति कुंवर भैना ,कुंवर सिंह पिता रतिराम और बिरसिया बाई पति पवन सिंह को एक नग लोहे की टांगी और अन्य सामग्री के साथ गिर्फतार कर लिया है ।

sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
Back to top button