ब्रेकिंग न्यूज़
Home / एजुकेशन / उच्च शिक्षा और स्कूल शिक्षा दोनों की जिम्मेदारी संभाल रहे इन अध्यापक का नाम गिनिज बुक में होना चाहिए ।
.

उच्च शिक्षा और स्कूल शिक्षा दोनों की जिम्मेदारी संभाल रहे इन अध्यापक का नाम गिनिज बुक में होना चाहिए ।

Advertisement

एक ही व्यक्ति एक ही समय में स्कूल में भी सहायक प्राध्यापक और कालेज में भी सहायक प्राध्यापक ।

दबंग न्यूज लाईव
शुक्रवार 21.07.2022

जांजगीर – अपने देश में एक से एक होनहार लोग हैं जो एक साथ दो जगहों पर नौकरी करते हैं । ऐसे किस्मत वाले कम ही होते हैं जिन्हें एक जिंदगी में एक ही समय में दो दो जगह नौकरी करने का अवसर प्राप्त होता है । यहां किसी को एक नौकरी नसीब नहीं होती वहीं एक महाशय एक ही समय में दो दो जगह नौकरी बजा रहे हैं और दोनों जगह से सैलरी ले रहे हैं ।


ये अदभूत कारनामा है जांजगीर जिले के सलनी का । सलनी में देवी चंडी पब्लिक उच्चतर माध्यमिक स्कूल और के टी सी कॉलेज चल रहा है । इन दोनों संस्थानों का संचालन एक ही समिति कर रही है । समिति पर पूर्व में भी अनियमितता के कई आरोप लग चुके हैं लेकिन सांठ गांठ इतनी तगड़ी है कि कुछ हुआ नहीं । दबंग न्यूज लाईव ने पूर्व में इस समिति और इसके द्वारा संचालित स्कूल कालेजों की अनियमितता की खबर प्रकाशित की है जिसके बाद प्रशासन कुछ जागा जरूर ।

लेकिन इस कालेज का एक और कारनामा सामने आया है । इस कारनामें के बाद दिमाग की नसें झनझना जाएंगी कि आखिर इतने सालों से यहां ऐसा गंभीर अपराध होते रहा और किसी जिम्मेदार की नजर उस पर नहीं पड़ी या जानकारी के बाद भी अधिकारियों ने इस पर ध्यान नहीं दिया ।
ये मामला है एक होनहार व्यक्ति महिपाल सिंह चंद्रा का । महिपाल सिंह चंद्रा स्कूल में सहायक प्राध्यापक भी है और यहां की एनएसएस के प्रभारी भी हैं  और कई कैंपों में इन्होंने इसका प्रतिनिधित्व किया है । बात यहीं तक रहती तो अच्छा था लेकिन बात इससे भी आगे की है । यहीं मोहन चंद्रा के टी सी कालेज में भी सहायक प्राध्यापक हैं । और एक ही समय में स्कूल और कालेज दोनों जगह डयूटी बजा रहे हैं और सैलरी ले रहे हैं ।

ऐसा नहीं है कि इस गोरखधंधे की जानकारी जिम्मेदार अधिकारियों को नहीं है । यहां के प्राचार्य डा. मनोज झा ने इस गंभीर गड़बड़ी की शिकायत उच्च अधिकारियों से की लेकिन यहां की व्यवस्था नहीं सुधरी उल्टा हुआ ये कि कालेज के प्रबंधन समिति ने प्राचार्य डा मनोज झा को नियम विरूद्ध जाते हुए उनका निष्काशन कर दिया ।

उच्च शिक्षा विभाग और स्कूल शिक्षा विभाग को इस गंभीर मामले में संज्ञान लेते हुए उचित कार्यवाही करनी चाहिए । दोनों विभागों को ये समझना चाहिए कि ऐसा गंभीर अपराध सिर्फ आर्थिक ही नहीं बच्चों के भविष्य पर भी असर डालेगा ।

इस पूरे मामले में महिपालसिंह चंद्रा ने पहले कहा कि वो स्कूल में पार्ट टाईम पढ़ा रहे हैं लेकिन बाद में अपनी ही बात पर फंसते नजर आए तो कहा कि स्कूल नहीं कालेज में पार्ट टाईम पढ़ा रहे हैं । महीपाल सिंह ने बताया कि उनकी नियुक्ति तो स्कूल में ही हुई है लेकिन स्कूल और कालेज का टाईम अलग अलग है इसलिए दोनों जगह पढ़ा देते हैं । ये पूछने पर कि क्या वो स्कूल या कालेज जिसे भी पार्ट टाईम मानते हैं वहां की सैलरी नहीं ले रहे तो उनका कहना था कि बिना पैसे के कोई कैसे पढ़ाएगा ।

बहरहाल महिपाल सिंह ने साफगोई दिखाते हुए इसे स्वीकारा है कि वो दोनों जगह से सैलरी ले रहे हैं और पढ़ा रहे हैं । पढ़ाना कोई जुर्म नहीं है लेकिन जैसा यहां हो रहा है क्या वो गंभीर अपराध की श्रेणी में नहीं आता ? अब ये सोचना और समझना अधिकारियों का काम है ।

Advertisement
Advertisement

About sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
x

Check Also

SUSPENDED – वन विभाग में भ्रष्टाचार , बेलगहना क्षेत्र के तीन और निपटे ।

Advertisement एक वनपाल सहित दो वनरक्षक भ्रष्टाचार के आरोप में निलंबित । ...

error: Content is protected !!