close button
कोरबाकरगी रोडपेंड्रा रोडबिलासपुरभारतमरवाहीरायपुर

जंगल की खाक छानते -छानते कर डाला ऐसा काम कि बन गया वर्ल्ड रिकार्ड ।

कोटा में जंगल के एक अधिकारी का काम जिसने दिलाई दुनिया में पहचान ।

संजीव शुक्ला

दबंग न्यूज लाईव
गुरूवार 03.02.2022

बिलासपुर – कहते हैं कोई धून जब आपको लग जाती है तो फिर आपको कुछ होश नहीं रहता और जब थोड़ा होश आता है तब तक आप कुछ ऐसा कर चुके होते हैं कि उसकी तरफ पुरी दुनिया का ध्यान चले जाता है । लेकिन इस धून और लगन को दुनिया के सामने लाते तक आपको सब कुछ छोड़कर इस तरफ पूरी शिद्दत से जुटना होता है । लेकिन यदि कोई  शासकीय सेवा में हो और सेवा भी जंगल विभाग में जहां कब कहां डयूटी करनी पड़ जाए और बुलावा आ जाए उसका पता न हो ऐसे में भी यदि कोई अपनी डयूटी पूरी करते हुए रिकार्ड बना डाले तो फिर उस व्यक्ति को लाखों सलाम ।


कोटा वन विभाग में एसडीओ के पद पर अपनी डयूटी निभाते हुए ललीत दुबे ने ऐसा कारनामा कर डाला है कि अब उनका नाम इंडिया रिकार्ड ऑफ बुक के साथ ही वर्ल्ड रिकार्ड बुक में भी शामिल होने जा रहा है ।
वन विभाग कोटा में एसडीओ के पद पर पदस्थ ललीत दुबे मूलतः भिलाई के तालपुरी के रहने वाले है । और इन्हें शुरू से ही पेंटिग का शौक रहा है लेकिन यही पेंटिग उन्हें एक दिन विश्व में पहचान दिला देगी ये शायद शुरूवाती समय में भी उन्हें भी नहीं पता था ।


लेकिन पिछले छह माह में उन्होंने राम नाम की जो लगन अपने में जगाई उसने उन्हें वर्ल्ड रिकार्ड धारी बनवा दिया । उन्होंने पिछले रिकार्ड को तोड़ते हुए तीन करोड़ 75 लाख से भी ज्यादा बार राम नाम लिखते हुए 35 फीट लंबी पेंटिग कर डाली । इस अदभूत और गौरवशाली पेंटिग में मर्यादा पुरूषोत्तम राम के जीवन के हर रंग आपको राम नाम में लिखे दिखते हैं । उनकी इस कृति की प्रेरणा भी उनकी बेटी कृति ही है । ललीत दुबे पिछले 1 मई से इस पेंटिग को बनाने में लगे हुए थे और अपनी डयूटी निभाते हुए जो समय उन्हें मिलता उसी समय में राम नाम से पेंटिग करने लगते ।


इस बीच कुछ दिन पहले वे गंभीर रूप से बिमार भी हुए और कई दिन आईसीयू में रहे लेकिन राम अपने भक्तों को इतनी उर्जा और साहस तो दे हीे देते हैं कि वो फिर से उठ खड़े हो । ललीत दुबे ने भी अपनी बिमारी को मात दिया और राम नाम की पेंटिग में जुट गए और प्रभु राम की कृपा से उन्होंने अपना नाम भारत रिकार्ड बुक में दर्ज करवा लिया । और अब वर्ल्ड रिकार्ड बुक में नाम दर्ज होने वाला है ।

ललीत दुबे का 2008 में राज्य सरकार ने भी सम्मानित किया है । ये कोटा के लिए गौरव की बात है कि इंडिया रिकार्ड बुक और वर्ल्ड रिकार्ड धारी पेंटर हमारे कोटा में हैं । ये वन विभाग और छत्तीसगढ़ के लिए भी गौरव की बात है I

दबंग न्यूज लाईव से बात करते हुए ललीत दुबे ने बताया कि – ये बस प्रभु राम की कृपा है कि उन्होंने मुझे इस काम के लिए चुना । कई समस्याओं और परेशानियों के बाद भी ये रिकार्ड बन गया । इंडिया रिकार्ड बुक 2022 में इस पेंटिग को स्थान मिला है और अब वर्ल्ड रिकार्ड बुक में इसे स्थान मिलने वाला है ।

 दबंग न्यूज लाईव की पुरी टीम की तरफ से ललीत दुबे जी को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ।

sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
Back to top button