2008 में प्रेमी के साथ मासूम बच्चो सहित 7 लोगों की थी हत्या ।

दबंग न्यूज लाईव
बुधवार 17.02.2021

 

मथूरा देश के इतिहास में पहली बार किसी महिला कैदी को फांसी दी जायगी अमरोहा की रहने वाली शबनम ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर परिवार के सात लोगों की हत्या की थी जिसमें मासूम बच्चे भी शामिल थे इस दरिंदगी के लिये सुप्रिम कोर्ट ने उसे मौत की सजा सुनाई थी राष्ट्रपति के पास दी गयी दया याचिका के खारिज होने के बाद अब उसे अमरोहा की महिला जेल में फांसी देने के तैयारियां की जा रही है इसके लिये निर्भया कांड के अपराधियों को फांसी देने वाले मेरठ के पवन जल्लाद को नियुक्त किया गया हैंI

पूरा मामला इस प्रकार हैं अमरोहा की रहने वाली शबनम ने अप्रैल 2008 में प्रेमी सुनिल के साथ मिलकर अपने सात परिजनों की कुल्हाड़ी से काटकर बेरहमी से हत्या कर दी थी जिसमें सेंसन कोर्ट ने उसे मौत की सजा सुनाई थी जिसे सुप्रीम कोर्ट ने बरकरार रखा शबनम के वकील ने राष्ट्रपति के पास दया याचिका लगायी थी जिसे खारिज कर दिया गया अब उसे फांसी दिया जाना तय हैं इस तरह शबनम आजादी के बाद देश की पहली महिला कैदी होगी जिसे फांसी पर लटकाया जाएगा.

आज तक किसी महिला को नहीं हुई फांसी – उ.प्र.के मथुरा जेल में 150 साल पहले महिला फांसीघर बनाया गया था परंतु आजादी के बाद से अब तक किसी भी महिला को मौत की सजा नहीं हुई इसलिये किसी भी महिला को फांसी पर नहीं लटकाया गया शैलेंद्र कुमार मैत्रेय इस जेल के वरिष्ठ जेल अधीक्षक हैं जिनकी मौजूदगी में शबनम को फांसी पर लटकाया जायेगा हालाकी अभी फांसी की तारीख तय नहीं हुयी हैं लेकिन तैयारी शुरू कर दी गयी है डेथ वारंट इंशू होते ही शबनम को फांसी दे दी जाएगी.

बिहार से मंगायी जाएगी फांसी की रस्सी- जेल अधीक्षक के मुताबिक पवन जल्लाद के बताये अनुसार फांसी के तख्ते व लीवर की कमी को ठीक करवा दिया गया है. फांसी के लिये बिहार के बक्सर से रस्सी मंगवाई गयी है अगर अंतिम समय में कोई अड़चन नहीं आयी तो शबनम पहली महिला होंगी जिसे आजादी के बाद फांसी दी जायेगी.