दो माह से कटे पड़े हैं सागौन वृक्ष लेकिन विभाग का बिहार जाने वाली लकड़ीयों की तरफ ध्यान ।

दबंग न्यूज लाईव
रविवार 30.07.2023

बेलगहना /बिलासपुर – बिलासपुर जिले में कोटा विकासखंड ही ऐसा क्षेत्र हैं जो वनों और वन्य जीवों से भरपूर है । इन वनों की रक्षा के लिए वन विभाग भी है …उसके कर्मचारी और अधिकारी भी है । इनकी जिम्मेदारी वन क्षेत्रों में हो रहे अवैध कामों को रोकने और उस पर कार्यवाही करने का है । लेकिन बेलगहना रेंज के सोनपुरी बीट के कक्ष क्रमांक 1065 में अवैध रूप से कई सागौन के बड़े पेड़ को काट दिया गया है लेकिन विभाग के जिम्मेदारी कर्मचारियों और अधिकारियों की इसकी सुध नहीं है और हो भी कैसे क्योंकि अधिकतर कर्मचारी तो बिहार जाने वाली मलाई के फेर में लगे रहते हैं । और जब मीडिया या कोई अन्य जागरूक व्यक्ति विभाग के जिम्मेदारों को इसकी जानकारी देता है तो अधिकारियों के जवाब सुनकर लगता है कि जंगल और उसकी सुरक्षा से इन्हें कोई मतलब नहीं है ।


प्राप्त जानकारी के अनुसार बेलगहना के सोनपुरी बीट के कक्ष क्रमांक 1065 में भारी मात्रा मे सागौन के बड़े बड़े पेड़ काट दिए गए हैं । जब पेड़ कटने की जानकारी कर्मचारियों को नहीं है तो किसने काटे ये जानकारी होना तो दूर की बात है । ग्रामीणों ने जो जानकारी दी उसके अनुसार लगभग दो माह हो गए हैं इन पेड़ों को कटे हुए लेकिन विभाग ने इस तरफ ध्यान नहीं दिया है ।


विभाग की लापरवाही इसी में समझ आती है कि दो माह से पेड़ कटे हैं लेकिन विभाग ने इस पर कोई संज्ञान नहीं लिया है । एक नीजि मीडिया कर्मी ने जब यहां के डिप्टी रेंजर मिश्रा से इस बारे में जानकारी चाही तो उनका कहना था मैं तो बाहर हूं आपको जो छापना है छाप दो । जिम्मेदारों का इस प्रकार का बयान ये दर्शाने के लिए काफी है कि उनको ना तो उचच अधिकारियों का डर है और ना ही विभाग के नियम कायदे कानूनों को और सहीं भी है जब कर्मचारी को अपने कर्तव्य ही ना पता हो तो ऐसा ही होता है ।


अंदरूनी सूत्रों की माने तो यहां के वन विभाग का अमला इन दिनों बिहार की तरफ जाने वाली लकड़ीयों की मलाई छानने में लगा हुआ है और उसका पूरा ध्यान इसी तरफ है ऐसे में वनों में अवैध कटाई और कामों की तरफ इनका ध्यान कम ही जाता है ।


इस बारे में बिलासपुर डीएफओ कुमार निशांत से जब बात की गई तो उनका कहना था – “इस बारे में जानकारी लेनी पड़ेगी क्योंकि दस दिन पहले ही सोनपुरी बीट का निरीक्षण करवाया गया है और ड्रोन से भी वीडियोग्राफी हुई है । हो सकता है विडियो कहीं और का होगा ।”

जंगल के अंदर से खबर और वीडियो बनाने वाले एक नीजि चैनल के पत्रकार का कहना था कि मैने खुद जंगल के अंदर ये वीडियो कल बनाया है यहां एक दो नहीं कई सागौन के पेड़ कटे हुए है ।