close button
ब्रेकिंग न्यूज़
Home / कोरबा / कोविड के सहारे पैसे बनाने में लगे लोग । बिलासपुर से कोटा प्रायवेट एम्बुलेंस का किराया सात हजार रूपए ।
.

कोविड के सहारे पैसे बनाने में लगे लोग । बिलासपुर से कोटा प्रायवेट एम्बुलेंस का किराया सात हजार रूपए ।

Advertisement

प्रायवेट एम्बुलेंस पर कोई नियंत्रण नहीं । प्रशासन को चाहिए इनका रेट तय कर सार्वजनिक किया जाए ।

दबंग न्यूज लाईव
मंगलवार 21.04.2021

 

बिलासपुरकरोना संक्रमण काल में जब हर व्यक्ति परेशान है ऐसे समय में भी कुछ लोग ऐसे हैं जो सेवा के नाम पर जमकर लुट मचाए हुए है । कोविड ईलाज के बहाने प्रायवेट अस्पतालों की मनमानी की खबर हर दिन सामने आते रहती है । लेकिन हम जो खबर आज आपको बता रहे हैं वो और भी चोैंकाने वाली है ।


जिले में प्रायवेट एम्बुलेंस ने अपना किराया बढ़ा दिया है और ऐसा बढ़ाया है कि आम गरीब आदमी के लिए इसका किराया देना बहुत मुश्किल है । कोटा से बिलासपुर का एम्बुलेंस किराया सात हजार रूपए हो गया है । प्रायवेट एम्बुलेंस वालों ने मनमर्जी करते हुए इन दिनों अपना रेट अनाप शनाप बढा दिया है ।


कल रात एक प्रायवेट अभय एम्बुलेंस ने कोटा से बिलासपुर का किराया सात हजार रूपए लिया । जबकि कोटा से बिलासपुर एम्बुलेंस का किराया ज्यादा से ज्यादा दो से ढाई हजार रूपए ही लगता है । बिलासपुर से कोटा की दूरी भी मात्र 27 से 28 किमी है ।
बिलासपुर के अभय एम्बुलेंस ने कल कोटा से बिलासुपर जाने का किराया सात हजार रूपए ले लिए । प्राप्त जानकारी के अनुसार कोटा के आनंद अग्रवाल की माताजी को लेने कल अभय एम्बुलेंस की एक गाड़ी आई थी जिसने अपना किराया सात हजार रूपए बताया । आनंद अग्रवाल ने जब इस सात हजार की रसीद देने कहा तो एम्बुलेंस का ड्राईवर आनाकानी करने लगा तथा बहाना बनाने लगा ।


 प्रशासन को चाहिए कि जैसे वो हर आवश्यक चिजों के दामों पर नजर रखी हुई है उसी प्रकार प्रायवेट एम्बुलेंस का भी किमी के हिसाब से किराया तय कर दे ताकि लोगों को पता रहे कि कितना किराया देना है । इन प्रायवेट एम्बुलेंस में किसी प्रकार का नियंत्रण नहीं होने के कारण ये लोग इस समय लोगों से अनाम शनाप किराया वसुल रहे हैं ।

Advertisement
Advertisement

About sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
x

Check Also

प्रदेश में स्कूल संचालन को लेकर हर दिन नए आदेश । अब छठवीं से ग्यारहवीं तक नहीं लगेगी कक्षाएं ।

Advertisement फिर पहली से पांचवीं की कक्षाओं का संचालन क्यों ? करोना ...

error: Content is protected !!