close button
ब्रेकिंग न्यूज़
Home / कोरबा / कोटा में रूक नहीं रहा मौत का सिलसिला , एक हफते में एक ही परिवार के तीन लोगों की आकस्मिक मौत ।
.

कोटा में रूक नहीं रहा मौत का सिलसिला , एक हफते में एक ही परिवार के तीन लोगों की आकस्मिक मौत ।

Advertisement

पहले पिता फिर बेटा फिर बेटी सो गए मौत की निंद ।

संकुल समन्वयक झारिया जी और उनकी धर्मपत्नि भी कल स्वर्गसिधार गए ।

 

दबंग न्यूज लाईव
शनिवार 24.04.2021

करगीरोड कोटा – कोटा नगर में पिछले एक माह से मौत का सिलसिला थम ही नहीं रहा है । हर दिन किसी ना किसी की मौत की खबर सामने आ रही है । कोटा में एक ही परिवार के तीन सदस्यों की पिछले एक हफते में मौत हो चुकी है तो वहीं एक शिक्षक और उनकी पत्नि ने कल रात इस दुनिया को छोड़ दिया ।


कोटा मंडल के महामंत्री अनिरूद्ध द्विवेदी की तीन दिन पहले ही आकस्मिक मोैत हुई उसके दो दिन पहले ही उनके पिताजी का भी स्वर्गवास हो गया था आज उनकी बहन की भी मौत हो गई है । अब घर में सिर्फ उनकी मां ही बची है जो आंगनबाड़ी में कार्यकर्ता के पद पर है । ये ऐसा आघात है जिसे सहन नहीं किया जा सकता । एक हंसता खेलता परिवार एक हफते के अंदर खतम हो गया । प्राप्त जानकारी के अनुसार शिवानी दुबे को तबीयत खराब होने के बाद कोटा अस्पताल लाया गया था जहां उनकी दोपहर 12 बजे उनकी मौत हो गई । कल रात ही कोटा के शिक्षक एस झारिया और उनकी पत्नि का भी आकस्मिक निधन हो गया है ।कोटा भाजपा मंडल के साथ ही पूरे नगर ने इस परिवार के साथ अपनी संवेदना व्यक्त की है I


कोटा में पिछले एक माह में कई ऐसी मौते हुई है जिसने नगर को हिला कर रख दिया है । शहर में हर दिन करोना के मरीज भी सामने आ रहे हैं लेकिन लोगों की भीड़ अभी भी शहर के हर मोहल्ले में देखी जा सकती है ।


सुबह और शाम लोग पैदल बाईक में और कारों में बेवजह घुमते नजर आ जाएंगे । प्रशासन और पुलिस इस समय कहां रहती है पता नहीं । शहर के अधिकांश वार्डो में स्थिति चिंताजनक है लेकिन प्रशासन ने अभी तक सुरक्षा की दृष्टि से कोई कदम नहीं उठाए हैं । हटरी चोैक से लेकर डाकबंगला और पड़ावपारा तक स्थिति काफी नाजूक है । लेकिन ना कोई रोकने वाला ना नियमों का पालन कराने वाला ।

 

Advertisement
Advertisement

About sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
x

Check Also

प्रदेश में स्कूल संचालन को लेकर हर दिन नए आदेश । अब छठवीं से ग्यारहवीं तक नहीं लगेगी कक्षाएं ।

Advertisement फिर पहली से पांचवीं की कक्षाओं का संचालन क्यों ? करोना ...

error: Content is protected !!