close button
करगी रोडकोरबापेंड्रा रोडबिलासपुरभारतमरवाहीरायपुर

ये तो लापरवाही या बेवकुफी की हद है…2016 से अब तक 53 लाख से ज्यादा गंवा बैठी सेवानिवृत्त कर्मचारी ।

पांच लाख के लोन के चक्कर में गंवाए 53 लाख से अधिक की राशि ।
गौरेला के पतेराटोला का मामला ।

दबंग न्यूज लाईव
मंगलवार 29.12.2020

गौरेला – मात्र पांच लाख रूपए के लोन के चक्कर में एक सेवा निव्त्त शासकीय महिला कर्मचारी ने अपने 53 लाख से अधिक की पूंजी गंवा दी । चोैंक गए और सोच में पड़ गए कि जब इतने पैसे खुद के पास थे तो फिर पांच लाख लोन के चक्कर में कैसे फंस गए । लेकिन ये सच है यदि गौरेला के पतेराटोला निवासी इंदिरा स्वामी ने जो शिकायत गौरेला थाने में की है उसको देखा जाए तो ये सनसनीखेज मामला सामने आया है ।


पतेराटोला निवासी इंदिरा स्वामी पति बसंत कुमारी स्वामी जिनकी उम्र लगभग 76 साल है ने आज गौरेला थाने में शिकायत की कि 2016 से उन्होंने रकम लेन देने के नाम पर विभिन्न अज्ञात व्यक्तियों द्वारा विभिन्न बैंको के विभिन्न खातो में माह जुलाई 2016 से माह अगस्त 2020 तक रकम जमा कराकर 5378650- रूपये की ठगी धोखाधडी करने के संबध में एक लिखित आवेदन पेश करती हूं ।


प्रार्थिया के लिखित आवेदन पर पुलिस ने धारा 420 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया । प्राप्त जानकारी के अनुसार इंदिरा स्वामी पति श्री बसंत कुमार स्वामी उम्र 76 वर्ष वार्ड नंबर 1 तेरा टोला गौरेला ने एक स्थानीय पेपर में मेगमा फायनेंस जयपुर का एड देखा । जिसमें कंपनी के कुछ नम्बर दिए गए थे इंदिरा स्वामी ने इन नम्बरों में से एक पर काल किया और फिर जाल बिछ गया धोखाधड़ी का । ये नम्बर थे 073648854,07073648859 द्वारा कम ब्याज दर पर लोन देने संबंधी विज्ञापन देखकर पांच लाख( 500000) लोन के लिए आवेदन किया और फिर दिनांक 11.7.2016 से 16.7. 2016 के बीच कुल रकम अठारह लाख छै सौ अस्सी जमा करा दिया ।


बाद में पैसा वापस लेने के नाम पर कम्पनी के अलग अलग व्यक्तियों द्वारा अलग अलग बैंको एवं अलग अलग बैंक खातों कुल जुमला रकम 5378650 – रूपये (तिरपन लाख अठहत्तर हजार छै सौ पचास) रूपये जमा कराकर धोखा धडी किये है । कहा गया सब रूपये रायपुर जनधन योजना एवं सी.एम. विडो , सी0एम0 आफिस में है । इस तरह रूपये जमा कराकर धोखा धडी किये है ।
पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और विवेचना में ले लिया है । देखना है कि पीड़ित महिला को ये रकम या इसमें से कुछ रकम मिल पाती है या नहीं । लेकिन इसे बेवकुफी से ज्यादा कुछ नहीं कहा जा सकता जब आपको कोई चार सालों से लुट रहा हों और बेहोश हो ।

sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
Back to top button