close button
करगी रोडकोरबापेंड्रा रोडबिलासपुरभारतमरवाहीरायपुर

फर्जी वन अधिकार पट्टा मामला – रेंज में बड़े़ पैमाने पर जंगलों की कटाई ।

छतौना-पुडु मार्ग पर ग्राम पंचायत परसापानी का मामला ।

दबंग न्यूज लाईव
गुरूवार 03.09.2020

 

सुमन पाण्डेय की खबर

रगीरोड कोटाग्राम पंचायत परसापानी के अन्तर्गत छतौना-पुडु कच्चीरोड के दोनो ओर जहां कभी घना जंगल हुआ करता था आज वन विभाग की लापरवाही और भ्रष्टाचार के चलते बड़े पैमाने पर जंगलों की कटाई जारी है । स्थानीय लोग वहां का जंगल काटकर खेत बना रहे हैं और वन विभाग हाथ पर हाथ धरे बैठा है। वास्तव में यह मामला केवल जंगल कटाई का नही है इसके साथ साथ फर्जी पट्टा मामला भी जुड़ा हुआ है । जंगल की कटाई वही लोग कर रहें है जिनके पास कथित रूप से फर्जी वन अधिकार पट्टा है।

जंगल की कटाई करने वाले ये समझ रहे हैं कि उन्हे वन विभाग द्वारा पट्टे की शक्ल में अधिकार पत्र मिल चुका है अब वो जंगल काटकर अपने लिए खेत बना सकतें हैं और वन विभाग की उदासीनता उनकी सोंच को और मजबूत कर रही है ।


दबंग न्यूज लाईव ने काफी पहले फर्जी वन अधिकार पट्टो को बांटकर मोटी रकम की उगाही कर ग्रामीणों को चूना लगाने के मामले का खुलासा किया था और इस संबंध में 4 जुलाई 2020 को समाचार प्रकाशित किया था। परन्तु यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है कि अभी तक इस मामले की जांच शुरू नही की गई है इसी का नतीजा है कि आज इस क्षेत्र के बड़े भाग में जंगलों की कटाई हो गयी है ।

वन विभाग इस कदर नींद में है कि अभीतक वनविभाग का कोई कर्मचारी मौके पर देखने तक नही गया है । मामले में अधिकारी भी उतने ही दोषी हैं क्योंकि वन अधिकारी एवं कर्मचारियों को उनके क्षेत्र भ्रमण के लिए जीपीएस सिस्टम से युक्त किया गया है । वन अधिकार संबंधी फर्जी पट्टे, जंगल की अवैध कटाई एवं इसी क्षेत्र में चार चार पुल बह जाने के समाचार पूर्व में लगने के बाद भी उस क्षेत्र में वनों की इस प्रकार अवैध कटाई हो जाना वन विभाग के अधिकारीयों एवं कर्मचारियों की घोर उदासीनता को दर्शाता है ।


वन मण्डलाधिकारी बिलासपुर निशांत कुमार – मैने फर्जी वनअधिकार पट्टो की जांच संबंधी निर्देश अनुविभागीय अधिकारी को दे दिये हैं वो मामले की जांच कर आवश्यकता होने पर एफ आई आर दर्ज कराएंगें और जंगल की कटाई के संबंध में मै तुरन्त सबंधित रेंजर को जांच के लिए निर्देश दे रहा हूं ।

sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
Back to top button