close button
ब्रेकिंग न्यूज़
Home / करगी रोड / सुबह मिली अज्ञात लाश की पहचान जिला कोर्ट के सीनियर रीडर के रूप में ।
.

सुबह मिली अज्ञात लाश की पहचान जिला कोर्ट के सीनियर रीडर के रूप में ।

Advertisement

हत्या , आत्महत्या या हादसा जांच में होगा खुलासा ।
कोटा का घोंघा जलाशय मौज मस्ती और अपराध का बनता जा रहा अड्डा ।

दबंग न्यूज लाईव
शनिवार 31.07.2021

करगीरोड कोटा – कोटा के घोंघा जलाशय में सुबह मिली अज्ञात लाश की पहचान शाम होते होते बिलासपुर जिला कोर्ट के सीनियर रीडर शिव कुमार श्रीवास्तव के रूप में हुई है । शिवकुमार श्रीवास्तव राजकिशोर नगर के रहने वाले थे और जिला कोर्ट में सीनियर रीडर के रूप में पदस्थ थे । प्राप्त जानकारी के अनुसार शिवकुमार श्रीवास्तव 29 जुलाई को अपने घर से न्यायालय काम पर जाने निकले लेकिन उसके बाद से उनकी कोई खबर घर वालों को नहीं मिली । इसके बाद परिवार वालों ने शिवकुमार श्रीवास्तव की गुमशुदगी की रिपोर्ट सरकंडा थाने में दी ।

आज सुबह कोटा के घोंघा जलाशय में वहां के चैकिदार ने एक लाश को तैरते हुए पाया जिसकी जानकारी उसने अपने विभाग के साथ ही पुलिस को भी दी । पुलिस ने मौके पर पहुंच कर लाश को बाहर निकाला और पंचनामा कर अपनी कार्यवाही शुरू की ।
इस बीच पुलिस को सरकंडा थाने में एक व्यक्ति की गुमशुदगी की जानकारी हुई । बाद में मृतक की पहचान गुम व्यक्ति शिवकुमार श्रीवास्तव के रूप में हुई ।


बहरहाल कोटा का घोंघा जलाशय इन दिनों मौज मस्ती और अपराध का गढ़ बनते जा रहा है । हर विकेंड पर यहां लोगों की भीड़ देखने मिल जाती है । जगह जगह शराब के बाटल ,डिस्पोजल और पाउच नजर आते हैं । कोटा के कुछ जागरूक युवाओं ने यहां सफाई अभियान शुरू किया लेकिन हर हफते यहां बोरों में शराब की बाटल और डिस्पोजल के कचरे ये बताते हैं कि यहां पारिवारिक पिकनीक कम और शराबखोरी ज्यादा होती है ।


घोंघा जलाशय में बिलासपुर निवासी की मिली लाश कई सवाल पैदा करती है । क्या किसी ने मृतक की हत्या करके लाश जलाशय में फेंक दी ? या मृतक ने किसी कारणवश आत्महत्या कर ली ? या फिर ये एक हादसा था ? इन सवालों के उत्तर पुलिस की जांच के बाद ही सामने आएंगे लेकिन इस हादसे के बाद प्रशासन को यहां की सुरक्षा व्यवस्था पर और नजर रखनी होगी ताकि आगे ऐसे हादसे या घटनाएं ना हो ।

Advertisement
Advertisement

About sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
x

Check Also

रेलवे ने अंडर ब्रिज बनाया है कि नहर समझ से परे है अच्छा होता रेलवे यहां बोट की भी व्यवस्था कर देता ।

Advertisement दो दिन के पानी ने रेलवे के सभी अंडर ब्रिज को ...

error: Content is protected !!