close button
ब्रेकिंग न्यूज़
Home / Uncategorized / बिजली खंबे की शिफटिंग के दौरान करंट से ठेका कर्मी की मौत । ना विभाग को मतलब ना ही ठेकेदार को दोनों ने पल्ला झाड़ा ।
.

बिजली खंबे की शिफटिंग के दौरान करंट से ठेका कर्मी की मौत । ना विभाग को मतलब ना ही ठेकेदार को दोनों ने पल्ला झाड़ा ।

Advertisement

मृतक के परिवार का कहना बिना सुरक्षा उपकरण के काम करवा रहा था ठेकेदार ।

दबंग न्यूज लाइव
गुरूवार 10.06.2021

विकास तिवारी

बिलासपुर – रोड निर्माण के दौरान बीच में आए बिजली के पोल की शिफ्टिंग के दौरान एक युवा मजदूर की करंट लगने से मौत हो गई लेकिन इस हादसे के बाद सभी जिम्मेदारों ने अपना पल्ला झाड़ लिया । ना विद्युत विभाग ने इस तरफ ध्यान दिया और ना ही ठेकेदार ने । इतने बड़े हादसे के बाद भी ना ही विभाग के बड़े अधिकारियों ने इस मामले में संज्ञान लिया और ना ही ठेकेदार ने ही इस हादसे के बाद मृतक के परिवार वालों से संपर्क किया ।

सहीं भी है विभाग इसलिए पल्ला झाड़ रहा कि मृतक ठेकेदार का आदमी था । विभाग से उसका कोई लेना देना नहीं । और ठेकेदार तो चाहता ही होगा कि ये मामला ज्यादा तुल ना पकड़े और मामला रफा दफा हो जाए । लेकिन जिस परिवार के जवान सदस्य ने हादसे में जान गंवाई है उसके घर में मातम पसरा है और वे ठेकेदार पर आरोप लगा रहे हैं कि ठेकेदार के द्वारा काम के दौरान ना तो सावधानी बरती जाती है और ना ही सुरक्षा के व्यापक इंतजाम ही किए जाते हैं ।

पूरा मामला शनिवार के दोपहर दो बजे की बताई जा रही है । मंगला से भैसाझार के बीच सड़क निर्माण का काम चल रहा है । सड़क के बीच आने वाले बिजली के खंभों को किनारे करने का काम किया जा रहा है । इस काम का ठेका फ्यूचर इंजीनियर को मिला है । ठेका कंपनी के मजदूर खंबो की शिफटिंग में लगे हुए थे और इसी दौरान कोटा विकासखंड के कुंआजती में रहने वाला पच्चीस वर्षीय सुरज पोर्ते जो कि खंबे पर चढ़ा हुआ था उसकी करंट लगने से मौत हो गई ।

मृतक के परिजनों का आरोप है कि ठेका कंपनी के द्वारा काम के दौरान किसी भी प्रकार की सुरक्षा के इंतजाम नहीं किए गए हैं । काम के दौरान सावधानी भी नहीं रखी जाती जिसके कारण ये हादसा हुआ है । हादसे के बाद से हम लोग कई बार ठेकेदार को फोन लगा रहे हैं लेकिन वो हमारा फोन ही नहीं उठाता ।

विद्युत विभाग के पश्चिम डिवीजन के ई ई एस. के जांगड़े का कहना है – शव को पीएम के लिए सिम्स भेजा गया है पीएम रिपोर्ट आने के बाद मौत के कारण का पता चल सकेगा!

लेकिन इस हादसे के बाद सवालिया निशान विभाग पर भी लगते हैं कि क्या ठेका देने के बाद सारी जवाबदारी और जिम्मेदारी से बचा जा सकता है ? काम वाली जगह पर सुरक्षा के क्या इंतजाम है और सारी सावधानियां ठेकेदार के द्वारा रखी जा रही है कि नहीं क्या ये देखना विभाग की जिम्मेदारी नहीं है ? यदि ठेकेदार के द्वारा सुरक्षा नियमों का उल्लघंन किया जा रहा हो तो क्या ठेकेदार से सारे नियमों का पालन नहीं करवाना चाहिए ?

Advertisement
Advertisement

About sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
x

Check Also

प्रदेश में स्कूल संचालन को लेकर हर दिन नए आदेश । अब छठवीं से ग्यारहवीं तक नहीं लगेगी कक्षाएं ।

Advertisement फिर पहली से पांचवीं की कक्षाओं का संचालन क्यों ? करोना ...

error: Content is protected !!