close button
ब्रेकिंग न्यूज़
Home / करगी रोड / कुत्तों की नसंबदी पर सरकार ने खर्च कर डाले 17 करोड़, विधायक के सवाल पर आया चोैंकाने वाला जवाब ।
.

कुत्तों की नसंबदी पर सरकार ने खर्च कर डाले 17 करोड़, विधायक के सवाल पर आया चोैंकाने वाला जवाब ।

Advertisement

दो लाख तिरसठ हजार तीन सौ बासठ कुत्तों की नसबंदी करा दी सरकार ने और खर्च किए 17 करोड़ ।

दबंग न्यूज लाईव
गुरूवार 18.03.2021

 

सुनिल शुक्ला
रायपुर ब्यूरो

भोपाल मध्य प्रदेश में अवारा कुत्तों की नसबंदी का मामला मंगलवार को विधानसभा में गूंजा. इस बात को लेकर बीजेपी विधायक यशपाल सिसोदिया ने सरकार से सवाल करते हुए कहा कि प्रदेश में आवारा कुत्तों का आतंक दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है. इसको लेकर सरकार क्या रही है? इस पर नगरीय प्रशासन ने चैंकाने वाला जवाब दिया. जिसे सुनकर के सदन में बैठे सदस्य हैरान रह गए.


नगरीय प्रशासन ने अपने सवाल का जवाब देते हुए कहा कि सरकार प्रदेश के 5 बड़े शहरों में पिछले पांच साल में आवारा कुत्तों की संख्या नियंत्रित करने के लिए नसबंदी पर 17 करोड़ रुपए खर्च कर चुकी है. इस पर सवाल उठाते हुए बीजेपी विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने कहा कि सरकार द्वारा कुत्तों की नसबंदी की जिम्मेदारी एनजीओ को दी गई है. जो सवालों के घेरे में है.


यशपाल सिसोदिया ने कहा कि इनमें दो एनजीओ हैदराबाद और दो एनजीओ भोपाल के हैं. लेकिन इसके बावजूद भी नसबंदी का अभियान कहीं चलता नजर नहीं आता है. ऐसे में करोड़ों रुपये खर्च होने पर सवाल उठ रहे हैं? इस पर सरकार को गंभीरता से विचार करना चाहिए. विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा है कि इतने कम संसाधनों के बावजूद इतने आवारा कुत्तों की नसबंदी होना एक बड़ा सवाल है? मैंने प्रदेश के पांच बड़े महानगरों में 2015 से आवारा कुत्तों की नसबंदी की जानकारी मांगी थी. मुझे जवाब मिला है कि इन 5 वर्षों में ढाई लाख आवारा कुत्तों की नसबंदी की गई है. इन नसबंदियो के बदले उन NGO को 17 करोड़ की राशि दी गई है.


व‍िधायक यशपाल ने कहा क‍ि ये एनजीओ कितने पारंगत थे, क्या साधन थे, कैसे यहां तक आए, किस तरह उनके काम का संचालन किया? महानगरों में यदि इतने कुत्तों की नसबंदी की गई है तो उनकी प्रमाणिकता किसने दी है? कुत्तों को पकड़ा, उनकी नसबंदी की और छोड़ दिया. क्या उन्हीं कुत्तों की दोबारा नसबंदी तो नहीं कर दी? अनेक सवाल उठ रहे हैं. मेरा सवाल जब विधानसभा में आया तो चर्चा भी हो रही है कि ढाई लाख कुत्ते, 17 करोड़, 5 महानगर?


इसमें हैदराबाद की 2 एनजीओ थी, रीवा की 1 और देवास की एक एनजीओ थी. कुल मिलाकर 4 एनजीओ ने इतने बड़े काम को अंजाम कैसे दे दिया? एक एक शहर में औसत एक लाख की नसबंदी की गई है तो आप हिसाब लगा लीजिए. उनके संसाधन क्या है, कैसे काम किया, प्रमाणिकता क्या है? कितने पार्षदों या महापौरों से इनके काम की पुष्टि करवाई गई? 17 करोड़ की राशि ज्यादा होती है ये सरकार का नहीं जनता का पैसा है, जनता के पैसे का कितना सदुपयोग हुआ है इसके लिए प्रश्न था. ये 5 महानगर की जानकारी है पूरे प्रदेश की तो मांगी नहीं.

आवारा कुत्तों की नसबंदी के लिए इन शहरों में खत्म हुए इतने रुपए

इंदौर में 1 लाख 6 हजार कुत्तों की नसबंदी पर 7 करोड़ 46 लाख रुपए खर्च हुए.

भोपाल में 1 लाख 4 हजार कुत्तों की नसबंदी पर 6 करोड़ 76 लाख खर्च हुए.

जबलपुर में 31 हजार 385 कुत्तों की नसबंदी पर 1 करोड़ 70 लाख रुपए खर्च हुए.

उज्जैन में 9000 कुत्तों की नसबंदी पर 50 लाख रुपए खर्च हुए.

ग्वालियर में 13277 कुत्तों की नसबंदी पर 53 लाखों रुपए खर्च हुए.

Advertisement
Advertisement

About sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
x

Check Also

Kusmunda Police – डीजल चोर और जुवाड़ियों पर कार्यवाही ।

Advertisement आरोपियों के विरूद्ध धारा- 13 जुआ एक्ट के तहत की गई ...

error: Content is protected !!