close button
ब्रेकिंग न्यूज़
Home / एजुकेशन / BREKING – एनएचएम के प्रदेश अध्यक्ष सहित पचास से ज्यादा कर्मचारियों की सेवा बर्खास्त ।
.

BREKING – एनएचएम के प्रदेश अध्यक्ष सहित पचास से ज्यादा कर्मचारियों की सेवा बर्खास्त ।

Advertisement

अपनी मांगों को लेकर है कर्मचारी आंदोलन और हड़ताल पर ।
प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री ने भी की थी अपील कि इस संक्रमण काल में सहयोग करें ।

 

दबंग न्यूज लाईव
मंगलवार 22.09.2020

 

रायपुर – एनएचएम यानी नेशनल हेल्थ मिशन के संविदा कर्मचारी इन दिनों अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं । कोरोना संक्रमण काल को देखते हुए प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव ने भी इनसे अपील की थी कि ये समय हड़ताल का नहीं है ये समय एक साथ मिलकर इस संक्रमण काल से लड़ने का है लेकिन स्वास्थ्य मंत्री के इस अपील का भी कर्मचारियों पर कोई असर नहीं हुआ था ।
संविदा कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर सरकार को उनका घोषणा पत्र याद दिलाया था और हड़ताल पर चले गए थे ।

आज सरकार ने इस पर गंभीर एक्शन लेते हुए कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष सहित पचास से अधिक कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है । सरकार की इस कार्यवाही से कर्मचारी संघ में आक्रोश है और लगभग 13 हजार कर्मचारियों ने  सामूहिक इस्तीफा सौंपने का निर्णय लिया है ।


उधर महासमुंद में भी नोटिस की अनदेखी कर काम पर नहीं लौटने वाले नेशनल हेल्थ मिशन (एनएचएम) के तीन अधिकारियों को बर्खाश्त कर दिया गया है। साथ ही दो अधिकारियोें रामगोपाल खुुंटे, पी.एस.डब्ल्यू, कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी महासमंुद और भैयालाल मिश्रा, ग्रामीण चिकित्सा सहायक, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खल्लारी द्वारा इस हड़ताल में शामिल होकर, कार्य से अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित रहे। मिशन संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन छत्तीसगढ़ को आवश्यक कार्रवाई की अनुशंसा की गई है।

फाईल फोटो

हालांकि कुछ कर्मचारियों ने इससे पहले डयूटी ज्वाइन कर ली । जिन तीन कर्मचारियांे की सेवा समाप्ति की गई है। सेवा समाप्त किए गए कर्मचारियों में समुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पिथौरा के कार्यक्रम प्रबंधक जयकातं विश्वकर्मा, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बागबाहरा के लेखा प्रबंधक अशीष वर्मा और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र झलप के पी.ए.डी.ए. गौरीशंकर साहू शामिल है।

फाईल फोटो

इन तीनों की सेवा समाप्ति छत्तीसगढ़ के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की ‘‘मानव संसाधन नीती वर्ष 2018 की कंडिका 29.10 के तहत कदाचार माना जाकर उसी नीति की कंडिका तहत उनकी संविदा नियुक्ति तत्काल प्रभाव से समाप्त की गई है। मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि सेवा समाप्ति से रिक्त हुए पदों पर भर्ती की प्रक्रिया की जायेंगी । मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी ने सेवा समाप्ति के आदेश जारी कर दिये है।

Advertisement
Advertisement

About sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
x

Check Also

sarpanch sachiv vivad – पंचायत सचिव को कमरे में बंद कर मारपीट – जब सरपंच पति के साथ उपसरपंच भी हो तो पावर आ ही जाता है ।

Advertisement सचिव संघ में नाराजगी कहा उचित कार्यवाही नहीं हुई तो करेंगे ...

error: Content is protected !!