ब्रेकिंग न्यूज़
Home / करगी रोड / पीएमजीएसवाई की कुरदर सड़क का बुरा हाल – पार्ट 1

पीएमजीएसवाई की कुरदर सड़क का बुरा हाल – पार्ट 1

Advertisement

 काम पूरा हुआ नही सड़क उधड़ने लगी रिटेनिंग वाल भी धराशायी

दबंग न्यूज लाईव
शुक्रवार 28.08.2020

बेलगहना-भारत सरकार ने सन 2000 में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की शुरूआत की थी इस योजना में कई महत्वाकांक्षी उद्देश्य निहित हैं जिनमें से एक यह है कि ग्रामीण ईलाकों में 250 या इससे अधिक आबादी वाले पहाड़ी गांवों को जो सड़क सम्पर्क से वंचित है बारहमासी सड़कों से जोड़ना है ताकि आर्थिक सम्पन्नता इन गावों तक जा सके । तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के समय से अभी तक इस योजना का नाम प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना ही है । भारत सरकार की यह एक अत्यंत महत्वपूर्ण एवं महत्वाकांक्षी योजना है जो देश की आधारभूत संरचना (इन्फ्रास्ट्रकचर) को बनाती है । इस योजना के अन्तर्गत बेलगहना क्षेत्र में भी कई सड़कों का निर्माण हो रहा है जिनमें लगभग सभी भ्रष्टाचार रूपी दानव के निवाले बन चुके हैं । दबंग न्यूज लाईव इन निर्माण कार्यों में चल रहे गोरखधंधों को उजागर करने के लिए प्रतिबद्ध है इसी तारतम्य में हम आपको बेलगहना से कुरदर, छुईहा, उमरिया आदि वन ग्रामों को जोड़ने वाली बेलगहना-कुरदर सड़क में हो रहे भ्रष्टाचार का दर्शन कराते हैं ।


वैसे तो 1.99 करोड़ रूपये की लागत से बनने वाली यह सड़क लगभग बन चुकी है केवल पांच स्थानों पर रिटेनिंग वाल यानि सड़क के किनारे की सुरक्षा दीवार का काम चल रहा है । इस पहाड़ी सड़क पर पिछले वर्ष बनाये गये रिटेनिंग वाल एवं उसके पहले से मौजूद वन विभाग द्वारा बनायी गयी रिटेनिंग वाल की मरम्मत पर बड़ी रकम खर्च की गयी थी जो दूसरे ही साल यानि इस वर्ष की बारिश में पूरी तरह से धराशायी होकर बर्बाद हो गयी है। रिटेनिंग वाल का जो हिस्सा बचा भी है उसमें गहरी दरारें पड़ चुकीं हैं जो कभी भी गिर सकती है।


बड़ी दुर्घटना की आशंका – जिस तरह से उक्त नवनिर्मित सड़क में कटाव हुआ है और किनारों की सुरक्षा दीवार टूटकर धराशायी हुई है किसी भी दिन किसी बड़ी दुर्घटना का कारण बन सकती है । दो पहिया से लेकर चार पहिया और बड़े वाहन दुर्घटना ग्रस्त होकर खाई में गिर सकते हैं । यहां यह उल्लेख भी प्रासंगिक होगा कि जबसे कुरदर वन ग्राम में ईको जोहार रिजार्ट और कुरदर वेली रिजार्ट चालू हुए हैं साथ ही पास के चांदनी झरने की दर्शनप्रियता बढ़ी है यहां टूरिस्टों की आवाजाही भी बढ़ गयी है ऐसे में अगर कोई दुर्घटना हो जाती है तो स्वाभाविक रूप से इसकी सारी जिम्मेदारी पीएमजीएसवाई विभाग की होगी अत इसे अत्यंत गंभीरता से लिया जाना चाहिए।


जनप्रतिनिधियों एवं जनता की प्रतिक्रिया– बेलगहना-कुरदर सड़क की दुर्गति देखकर इस क्षेत्र की जनता में काफी रोष है और यहां के जनप्रतिनिधीयों ने मामले को लेकर तीखी प्रतिक्रिया दी है –
अरूण चैाहान (अध्यक्ष, जिला पंचायत बिलासपुर)अभी उस सड़क का काम पूरा नही हुआ है ठेकेदार के काम खत्म करने के बाद अच्छी तरह गुणवत्ता की परख की जानी चाहिए इस सड़क का इस प्रकार से क्षतिग्रस्त होना दुर्भाग्यपूर्ण है पूरे काम की जांच की जानी चाहिए ।

विद्यासागर ओरकेरा (सदस्य, जनपद पंचा कोटा)बेलगहना-कुरदर की सड़क का निर्माण बहुत ही घटिया तरीके से किया जा रहा गुणवत्ता का बिलकुल भी ध्यान नही रखा जा रहा कभी भी उस सड़क में दुर्घटना हो सकती है अगर विभाग नए सिरे से गुणवत्तापूर्वक काम नही पूरा करेगी तो हम उग्र आंदोलन करेगे ।
              इस सड़क के विषय में तकनीकी जानकारी हम खबर के अगले पार्ट में देंगें और आपको यह भी बताएंगें की विभाग के जिम्मेदार अधिकारी इस मामले में क्या कहते हैं और ये बताएगें की कितनी मलाई किसके हिस्से में आई ।

Advertisement
Advertisement

About suman pandey

Avatar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

’शिक्षक भर्ती २०१९ में उच्च न्यायालय का बड़ा फैसला,

Advertisement युक्तियुक्त समय पर शासन को भर्ती प्रक्रिया पूर्ण करने हेतु किया ...

error: Content is protected !!