close button
करगी रोडकोरबापेंड्रा रोडबिलासपुरभारतमरवाहीरायपुर

महिला एवं बाल विकास विभाग में तकनीकी सलाहकारों ने खोला मोर्चा ।

बिना तकनीकी सलाहकारों के कैसे आयोजित होंगे 12 जिलों मे पोषण माह ।

स्वास्थ्य विभाग के समन्वय से डिजिटल प्लेटफार्म पर आयोजित होगा पोषण माह ।

 

दबंग न्यूज लाईव
बुधवार 02.09.2020

 

Sanjeev Shukla

रायपुर महिला एवं बाल विकास विभाग प्रदेश में सितम्बर माह को पोषण माह के रूप में मनाएगा । इसके लिए बकायदा गाईड लाईन और कार्यक्रम की रूपरेखा जारी कर दी गई है । जिसके तहत स्वास्थ्य विभाग भी महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ मिलकर स्वास्थ्य एवं पोषण कार्यक्रम में सहयोग करेगा ।

 


विभाग द्वारा जारी रूपरेखा के अनुसार पोषण माह में सभी गतिविधियों का आयोजन कोविड-19 से संबंधित निर्देशों का पालन करते हुए डिजिटल प्लेटफार्म के माध्यम से किया जाएगा। इस दौरान डिजीटल पोषण पंचायत, गृह भ्रमण एवं ग्राम स्वास्थ्य पोषण दिवस के माध्यम से समुदाय का संवेदीकरण,एनीमिया व डायरिया के प्रति जनजागरूकता, पोषण पर आधारित डिजीटल प्रतियोगिताओं का आयोजन और पोषण संबंधी कार्यक्रमों का प्रसारण किया जाएगा। इस माह के दौरान की जाने वाली गतिविधियों को भारत सरकार के जन आंदोलन के डैशबोर्ड पोर्टल पर भी अपलोड किया जाएगा।


इस दौरान जनमानस को उचित पोषण का महत्व समझाया जाएगा और गंभीर कुपोषित बच्चों की पहचान कर उनका संदर्भन और प्रबंधन किया जाएगा। पोषण माह के दौरान महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ स्वास्थ्य विभाग भी समन्वय से काम करेगा और उनके द्वारा पोषण जागरूकता के लिए विभिन्न गतिविधियां आयोजित की जाएंगी। इस संबंध में संचालनालय स्वास्थ्य सेवायें से सभी मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश जारी कर दिया गया है।


भारी भारी शब्दों वाले कार्यक्रम के बीच प्रदेश के 12 जिलों में स्वास्थ्य एवं पोषण कार्यक्रम में पिछले चार साल से तकनीकी सलाहकार के पद पर कार्यरत 67 कर्मचारियों को विभाग ने बजट नहीं होने के कारण सेवा से बाहर कर दिया है । प्रदेश के महिला बाल विकास विभाग के अंतर्गत पोषण अभियान में कार्यरत तकनीकी सलाहकार कुल 67 कर्मचारियो को विगत 5 माह से सैलरी नहीं दी गई एवं व्हाट्सप्प पर फरमान जारी किया गया कि प्रशासनिक स्वीकृति नही मिलने के कारण काम पर उपस्थित ना होवे ।


इस योजना में कार्यरत कर्मचारियों को अप्रैल 2020 से लेकर अगस्त 2020 तक का भुगतान नही किया गया है । ये कर्मचारी राज्य के 12 जिलों में तकनीकी सहायक के पद पर कार्यरत है जिन्होंने ने इस पोषण अभियान के अंतर्गत विगत 4 वर्षों से अपनी सेवाएं प्रदान की है । इस पूरे मामले में छत्तीसगढ़ सँयुक्त प्रगतिशील ने मोर्चा खोल दिया है संरक्षक विजय झा इस मुद्दे पर सरकार को संज्ञान लेने हेतु अपील की है एवं 67 तकनीकी सहायको की नौकरी में पुनः बहाली किये जाने हेतु कार्यवाही किये जाने की सिफारिश की है।

sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
Back to top button