close button
करगी रोडकोरबापेंड्रा रोडबिलासपुरभारतमरवाहीरायपुर

साइबर क्राइम को लेकर जागरूकता अभियान छेड़ने वाली पुलिस विभाग ही सुरक्षित नहीं ।

अब पुलिस वालों के नाम से ही फर्जी एकाउंट बनाकर ठगी करने की कोशिश ।

दबंग न्यूज लाईव
रविवार 30.08.2020

 

सुबीर चोैधुरी  मरवाही

रवाही – लॉक डाउन में लोगों का ज्यादातर समय इंटरनेट पर बीता, बैंकिंग का काम भी ऑनलाइन ही हुआ.ऐसे में कुछ हैकर्स या फर्जी लोग एक्टिव होकर लोगों के पैसों पर सेंध मारने की नई नई तरकीब निकालने लगे और लोगों को कभी कोई स्कीम के नाम पर तो कभी डोनेशन के नाम पर चूना लगा रहा हैं. कुछ लोग सोशल मीडिया पर फर्जी अकाउंट बनाकर ठगने का काम भी कर रहे हैं।

ऐसे में आपको सोशल नेटवर्किंग का इस्तेमाल करते समय अलर्ट रहना चाहिए. हाल ही में फर्जी फेसबुक अकाउंट से धोखाधड़ी के कई मामले सामने आए हैं. साइबर ठग फेसबुक का फर्जी अकाउंट  खोलकर लोगों से चीटिंग कर रहे हैं,और यह काम इतनी होशियारी से किया जा रहा है, कि यूजर्स को खबर तक नहीं लग पाती कि उसके फर्जी खाते का इस्तेमाल किया जा रहा है.

इन दिनों छत्तीसगढ़ पुलिस के डीएसपी,टी आई,कांस्टेबल के नाम व फोटो का उपयोग कर उन्ही के फ्रेंड लिस्ट वालों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी जा रही,जिसके बाद किसी बहाने या मजबूरी बता कर गूगल पे पर पैसे डालने का अनुरोध किया जा रहा।फिलहाल अब तक इस तरीके से किसी के ठगे जाने की खबर नही मिली है,समय रहते ही पुलिस भी इस मामले में प्रचार प्रसार करने लगी है।और अपनी फर्जी एकाउंट की स्क्रीन शॉट लेकर जानकारी के साथ सोशल मीडिया पर प्रसारित कर रहें I

फेक अकाउंट बनाकर चीटिंग करने वालों के निशाने पर ज्यादातर वे लोग होते हैं जो पब्लिक डीलिंग में होते हैं. पब्लिक डिलिंग में शामिल होने के चलते इन लोगों के दोस्त और फोलोअर्स भी काफी होते हैं. ऑनलाइन ठग किसी न किसी मदद के बहाने इन पैसे की मांग करते हैं.


साइबर ठग सबसे पहले आपके प्रोफाइल से आपका फोटो डाउनलोड कर के आपके नाम से फेक अकाउंट बनाकर आपके फ्रेंड को रिक्वेस्ट भेजता है. जैसे ही फ्रेंड रिक्वेस्ट को आपका फेसबुक फ्रेंड मंजूर करता है वैसे ही, आपके फ्रेंड से डोनेशन के नाम पर पैसे मांगा जाता है.

ये साइबर ठग अपनी बातों में ऐसे उलझाते हैं कि लोग उनके झांसे में आ जाते हैं. फिर वॉलेट से पैसा मांग जाता है. कुछ ऐसे भी मामले आए हैं, जिनमें साइबर ठग लोगों को विश्वास में लेकर उनके वॉलेट की जानकारी मांगते हैं और फिर उसे खाली कर देते हैं.

sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
Back to top button