close button
करगी रोडकोरबापेंड्रा रोडबिलासपुरभारतमरवाहीरायपुर

Leopard – फिर से बछड़े को बनाया निशाना । फौजी ढाबे से लेकर अनाया रिसार्ट तक मुवमेंट ।

दबंग न्यूज लाईव
शुक्रवार 21.01.2022

करगीरोड कोटा – कोटा के डेम एरिया में पिछले कई दिनों से रहवास बनाए हुए तेंदुवे की आहट पिछले कुछ दिनों से सुनाई नहीं दे रही थी लेकिन कल देर रात तेंदुवे ने अनाया रिसार्ट के पिछे की जोगिया पहाड़ी पर एक गाय के बछड़े पर हमला करके अपना निवाला बना लिया । बछड़े के पहले तेंदुवे ने एक गाय पर भी हमला किया लेकिन गाय किसी तरह बच कर भाग गई । इस हमले में गाय के गले के पास हमला हुआ है ।

जोगिया पहाड़े नेवसा में हमले में मृत बछड़ा ।

गाय के बच निकलने के बाद तेंदुवे ने गाय के एक बच्चे को अपना निशाना बना लिया । देर रात रिसार्ट में लोगों ने बछड़े और तेंदुवे की आवाज सुनी । आज शाम को वन विभाग की एक टीम जोगीया पहाड़ पहुंची जहां बछड़े का आधा खाया शव मिला । वन विभाग की टीम ने अपनी कार्यवाही पूरी करते हुए आस पास के लोगों को हिदायत दी है कि अंधेरे में जंगल की तरफ ना जाएं ।

फाईल फोटो

वन विभाग के एसडीओ ललीत दुबे ने बताया कि – जानकारी के बाद हमारी एक टीम घटनास्थल पर पहुंची थी जहां तेंदुवे द्वारा मारे गए बछड़े का शव मिला है ।बछड़े के मालिक का पता लगाया जा रहा है । डेम की तरफ जो ट्रेप कैमरे लगाए गए थे उन्हें निकाल लिया गया है ।

वन विभाग के डिप्टी रेंजर स्वर्णकार ने जानकारी दी कि – रिसार्ट के लोगों से जानकारी हुई थी कि कल रात को जोगिया पहाड़ पर बछडे़ और तेंदुवे की आवाज सुनाई दी थी जिसके बाद हम लोग घटना स्थल पर पहुंचे तो यहां एक से डेढ़ साल की उम्र का बछड़ा हमले में मरा मिला । गले के पास हमला करके खाया गया है । रिसार्ट वालों ने बताया कि एक गाय पर भी तेंदुवे ने हमला किया था । आस पास के पत्थरों पर बाल और कुछ निशान मिलें । बछड़े के मालिक कौन है इसकी जानकारी नहीं हो पाई है ।

कोटा के डेम क्षेत्र में आखरी बार 23 दिसम्बर को तेंदुवे को ट्रेप कैमरे ने रिकार्ड किया था । उसके बाद से इधर तेंदुवे की मुवमेंट सुनाई नहीं पड़ी है । वन विभाग ने इस एरिया में लगाए हुए कैमरे निकाल लिए हेैं इसलिए भी तेंदुवे की मुवमेंट का पता नहीं चल पा रहा है । वन विभाग को भी ये ध्यान देना चाहिए कि यदि तेंदुवा या अन्य कोई जानवर जंगल में शिकार करता है तो उसे ज्यादा तंग ना किया जाए । यदि तेंदुवा या शेर जंगल में शिकार करके भी उसको ना खा पाएं तो मुश्किल हो सकती है ।

 

sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
Back to top button