close button
करगी रोडकोरबापेंड्रा रोडबिलासपुरभारतमरवाहीरायपुर

एटीआर के कार्यालय में बैठकर पूरे एटीआर को चला रहे हैं दैनिक कर्मचारी और कम्प्यूटर आपरेटर ।

सरकारी क्वाटर पर भी कर लिए अवैध कब्जा , हद तो ये हो गई कि एक कर्मचारी ने सरकारी क्वाटर पर चालू कर दिया अपना निर्माण ।
कार्यालय के दैनिक वेतन कर्मचारियों पर अधिकारी महेरबान लेकिन फिल्ड के कर्मचारियों को पांच माह से वेतन नहीं ।

दबंग न्यूज लाईव
गुरूवार 26.08.2021

करगीरोड कोटा अचानकमार टाईगर रिजर्व में जंगल के अंदर क्या हो रहा है और क्या नहीं ये तो बहुत बाद में पता चलता है और कई बार तो पता भी नहीं चलता क्योंकि अधिकारी कोई जानकारी देते नहीं और अंदर जाना मना है याने अंदर क्या खेल हो रहा है ये बाहर ही नहीं आ पाता ।


लेकिन अचानकमार टाईगर रिजर्व के कोटा डिविजन के आफिस में जैसी अंधेरगर्दी मची है उसने ये तो बता दिया कि जब बाहर ये हाल है तो अंदर की तो पूछो ही मत । अचानकमार एसडीओ के आफिस के पास ही फारेस्ट के लगभग पांच से छह सरकारी क्वाटर हैं जो नियमतः विभाग के नियमित कर्मचारियों को मिलने चाहिए लेकिन इन सरकारी क्वाटर पर पिछले कई साल से दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों ने कब्जा कर रखा है ।


अब इन दैनिक वेतनभोगीयों को सरकारी क्वाटर कैसे अलॉट हो गए पता नहीं ? किसने इन्हें ये दिया ये भी नहीं पता ? क्योंकि इसका जवाब देने के लिए कोई भी जिम्मेदार अधिकारी सामने नहीं है । एटीआर के कोर एसडीओ प्रहलाद यादव से जब इस पूरे मामले में जानकारी ली गई तो उनका कहना था इसकी जानकारी मुझे नहीं है जानकारी लेकर तुरंत बताता हूं ।

          S.D.O Prahlad Yadav


लेकिन इन क्वाटरों में ये दैनिक भोगी कर्मचारी आराम से कब्जा करके रहते आ रहे हैं । हद्द तो ये हो गई है एक क्वाटर को एक दैनिक भोगी कर्मचारी अपने हिसाब से मोडीफाई करवा रहा है । उपर से कच्ची छत को हटाकर पक्का लेंटर किया जा रहा है । अब ये किस बजट से हो रहा है ? किसने इसकी अनुमति दी ये भी बताने वाला कोई नहीं है ।

याने अचानकमार टाईगर रिजर्व में सब की मौज ही मौज चल रही है । अधिकारी से लेकर नीचे स्तर तक के दैनिक वेतन भोगी जो कार्यालय में हैं उनके दिन बहुर गए हैं । लेकिन जो दैनिक भोगी कर्मचारी फिल्ड में हैं उन्हें पिछले कई माह से वेतन तक नहीं मिला है और लगता है उनकी सुध लेने वाला कोई अधिकारी अभी तक एटीआर में नहीं आया है । जो इन फिल्ड में कार्यरत दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों की दिक्कत को समझ सके ।

sanjeev shukla

Sanjeev Shukla DABANG NEWS LIVE Editor in chief 7000322152
Back to top button